RUDRADIVINE 108 + 1 6 mm Natural Brown Beads Rudraksha Japa Mala Rosary
RUDRADIVINE 108 + 1 6 mm Natural Brown Beads Rudraksha Japa Mala Rosary

RUDRADIVINE 108 + 1 6 mm Natural Brown Beads Rudraksha Japa Mala Rosary

₹551.00
Product Code: RUDRAKSHA mala
Availability: In Stock

Product Description

Considered highly effective for - Heart Diseases and Blood pressure

This Rudraksha mala is made with 5 faced Rudraksha beads. It is associated with electro-magnetic properties, which is good in controlling of blood pressure. It helps to release heat from the body thus good in relaxation

Wearing of holy beads means ensuring good health as it is termed as the incarnation of God Shiva

advantage for human - Perfect for Body, Mind & spiritual gains: Rudraksha evokes power in the body, which fights against diseases hence improving overall health. As per Ayurveda, Rudraksha strengthens the body constitutions. It removes the blood impurities and strengthens the body substance. It removes the bacteria inside as well as outside the Human Body. Rudraksha removes the headache, cough, paralysis, and blood pressure, heart disease and maternity problems. Wearing of Rudraksha brings glow on the face, which results in calm and charming personality. Rudraksha rosary is used for Japa. The process of Japa increases spiritual power and self-confidence to move in multi direction of life. Therefore, Rudraksha seeds are found be useful for providing health benefits as well as helps in gaining spiritual success. Wearing Rudraksha results in the destruction of sins from previous birth that cause difficulties in the present life. The men who are Mlechchha, chandaal (impious and inhumane) or full of all kinds of vices can get the form of Lord Rudra by wearing Rudraksha. This helps in getting rid of all the sins and gets him to attain the supreme goal of his life.


ColourNatural brown
OriginIndonesia
Beds size6 MM
GenderUnisex
ConditionNew
OccasionEveryday
StyleSpiritual


अगर आपने रुद्राक्ष का प्रयोग जाप के लिए करना है तो छोटे रुद्राक्ष ही आपके लिए सही हैं

लेकिन अगर रुद्राक्ष धारण करना है तो बड़े रुद्राक्ष का ही चयन करें।

सबसे पहले तो आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि रुद्राक्ष धारण करने से पहले उसकी जांच अत्यंत आवश्यक है।

अगर रुद्राक्ष असली है ही नहीं तो इसे धारण करने का कोई लाभ आपको प्राप्त नहीं होगा। खंडित, कांटों से रहित या कीड़ा लगा हुआ रुद्राक्ष कदापि धारण ना करें।

जिन लोगों ने रुद्राक्ष धारण किया है, उनके लिए मांस, मदिरा या किसी भी प्रकार के नशे को करना वर्जित है।

इसके अलावा लहसुन और प्याज के सेवन से भी बचना चाहिए।

रुद्राक्ष धारण करने से पूर्व उसे भगवान शिव के चरणों से स्पर्श करवाएं।

वैसे तो शास्त्रों में विशेष स्थिति में कमर पर भी रुद्राक्ष धारण करने की बात कही गई है लेकिन सामान्यतौर पर इसे नाभि के ऊपरी हिस्सों पर ही धारण करें।

रुद्राक्ष को कभी भी अंगूठी में धारण नहीं करना चाहिए, ऐसा करने से इसकी पवित्रता नष्ट हो जाती है

रुद्राक्ष धारण किए हुए कभी भी प्रसूति गृह, श्मशान या किसी की अंतिम यात्रा में शामिल ना हों।

मासिक धर्म के दौरान स्त्रियों को रुद्राक्ष उतार देना चाहिए। इसके अलावा रात को सोने से पहले भी रुद्राक्ष उतार दें।